श्रीकांत बोल्‍ला का जीवन परिचय | Shrikant Bolla Biography In Hindi

श्रीकांत बोल्‍ला का जीवन परिचय, जीवनी, उम्र, परिवार, सीईओ बोलन्‍ट इंडस्‍ट्री, करियर, सफलता की कहानी (Shrikant Bolla Biography in Hindi, Age, Family, Height, Weight, Religion, CEO of Bollant Industries, Success Story, career)

श्रीकांत बोला आज सफलता की कहानियों का एक बड़ा नाम बन चुके हैं जो लोग यह सोचते हैं कि शारीरिक असक्षमता व्‍यक्ति की सफलता की राह में रोड़ा बन सकती हैं। उनके लिए श्रीकांत बोला एक परफेक्‍ट उदाहरण साबित होते हैं।

श्रीकांत बोला नेत्रहीन होने के बावजूद आज करोड़ों नहीं बल्कि अरबों के मालिक बन चुके हैं। यहीं नहीं साल 2021 के दौरान फोर्ब्‍स द्धारा उन्‍हें एशिया की 30 अंडर 30 लिस्‍ट में भी जगह दी गई थी।

श्रीकांत बोला की सबसे बड़ी विशेषता हैं कि वह बचपन से अंधे हैं अंधे होने के बावजूद भी उन्‍होंने आज अपनी खुद की 200 करोड़ की कंपनी स्‍थापित की है। और उस कंपनी के सीईओं हैं।

श्रीकांत बोल्‍ला का जीवन परिचय | Shrikant Bolla Biography In Hindi

श्रीकांत बोल्‍ला का जीवन परिचय

पूरा नाम (Full Name)श्रीकांत बोला
जन्‍म (Date of Birth)7 जुलाई 1992
शिक्षा (Education)सीतारामपुरम सरकारी स्‍कूल, हैदराबाद के एक दिव्‍यांक स्‍कूल, मैसाचुसेट्स प्रौ़द्योगिकी संस्‍थान एमआईटी (MIT)
पेशा (Profession)उद्योगपति, सीईओ ऑफ बोलांट इंडस्‍ट्रीज
नागरिकता (Nationality)भारतीय
धर्म (Religion)हिंदू
नेटवर्थ (Networth)50 करोड़ बोलैंट इंडस्‍ट्रीज
प्रसिद्धि (Famous for)देश के पहले नेत्रहीन बने जिन्‍हें दसवी के बाद साइंस स्‍ट्रीम विषय पड़ा, सीईओ ऑफ बोलांट इंडस्‍ट्रीज

श्रीकांत बोल्‍ला का जन्‍म एवं शुरूआती जीवन

श्रीकांत बोला का जन्‍म 7 जुलाई 1992 को हुआ था। आंध्र प्रदेश के सीतारामपुरम के एक शहर मछलीपट्टनम में जन्‍में श्रीकांत अपने जीवन की शुरूआत से ही नेत्रहीन हैं। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति भी कुछ खास नहीं रही हैं। जिस कारण उन्‍हें बचपन से ही गरीबी का सामना करना पड़ा हैं।

श्रीकांत बोला की शिक्षा (Shrikant Bolla Education)

श्रीकांत बोला को विज्ञान का अध्‍ययन करने का अधिकार नहीं दिया गया था। इसलिए यह अधिकार अर्जित करने के लिए सरकार से संघर्ष करना पड़ा।

छह महीने के इंतजार के बाद, उन्‍हें अपने जोखिम पर विज्ञान का अध्‍ययन करने की अनुमति दी गई। लेकिन श्रीकांत ने 12वीं की बोर्ड परीक्षा में 98 फीसदी अंक हासिल कर सभी की उम्‍मीदों पर पानी फेर दिया। फिर भी समाज ने उसकी क्षमता पर विश्‍वास करने से इंकार कर दिया, सबको लगा की यह हो ही नहीं सकता।

अपनी प्री-यूनिवर्सिटी परीक्षा पूरी करने के बाद, श्रीकांत ने आईआईटी में प्रवेश लेने को सोची। जिसके लिए उन्‍होंने कोचिंग लेने की सोची। जो कि कठिन जेईई प्रवेश परीक्षा को क्रैक करने के लिए आवश्‍यक होती हैं। लेकिन कोचिंग संस्‍थानों द्धारा अस्‍वीकार कर दिया गया।

श्रीकांत बोल्‍ला का परिवार (Shrikant Bolla Family)

श्रीकांत बोल्‍ला का जन्‍म आंध्र प्रदेश के एक गरीब परिवार में हुआ था। उनके माता पिता दोनों अशिक्षित थे। श्रीकांत बोला के पिता का नाम दामोदर राव हैं ये एक किसान हैं। उनका परिवार पूरी तरह से खेती पर निर्भर था।

पिता का नाम (Father Name)दामोदर राव
माता का नाम (Mother Name)वेक्‍टम्‍मा
भाई का नाम (Brother Name)ज्ञात नहीं
बहन का नाम (Sister Name)ज्ञात नहीं
पत्‍नी का नाम (Wife Name)वीरा स्‍वाथी अप्रैल 2022

श्रीकांत बोला की शारीरिक बनावट (Shrikant Bolla Physical Stats)

लंबाई (Height)5 फीट 6 इंच
वजन (Weight)60 किलोग्राम
बालों का रंग (Hair Colour)काला
आंखो का रंग (Eye Colour)नेत्रहीन
उम्र (Age)29 वर्ष (2022 में)

श्रीकांत बोला का करियर (Shrikant Bolla Career)

श्रीकांत बोला ने अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अपने घर वापस आ गए और उन्‍होंने वहां पर एक छोटा फूड पैकेजिंग कंपनी स्‍थापित की। जो खाने-पीने की चीजों का पैकिंग करने का काम करती हैं।

जब उन्‍होंने अपनी कंपनी की शुरूआत की थी तो उस समय उनके कंपनी में 8 लोग थे और आज की तारीख में उनके कंपनी में 650 लोग काम करते हैं। और उनकी कंपनी का टर्नओवर 150 करोड़ रूपए हैं।

उन्‍होंने अपनी कंपनी की शुरूआत की और कंपनी उनका अच्‍छा प्रदर्शन करने लगी तो उनके काम की तारीफ टाटा ग्रुप के मालिक रतन टाटा ने किया था। और उन्‍होंने उनके कंपनी में पैसे भी निवेश किए थे।

उनकी कंपनी में जितने भी लोग काम करते हैं वह किसी न किसी विकलांगता से पीडि़त हैं। शुरूआत के दिनों में उन्‍हें पैसे की काफी दिक्‍कत का सामना करना पड़ा लेकिन उन्‍होंने कठिनाईयों और अपने परिश्रम के बल पर पैसे की दिक्‍कत को दूर किया। और कई बैकों और दूसरे प्रकार के संस्‍थान से फंड इकट्ठा कर उन्‍होंने अपने बिजनेस की शुरूआत किया था।

पहला भारतीय नेत्रहीन छात्र (First Indian Bling Student)

बार बार कोशिश के बाद किसी भी कोचिंग ने एडमिशन नहीं दिया। इतनी असफलताओं के बाद, श्रीकांत ने प्रतिष्ठित एमआईटी, यूएस-आधारित शीर्ष प्रौद्योगिकी स्‍कूलों में आवेदन किया और एमआईटी में न केवल पहले भारतीय नेत्रहीन छात्र बन गए, बल्कि यूनिवर्सिटी के पहले अंतर्राष्‍ट्रीय नेत्रहीन छात्र भी बन गए।

अच्‍छे मार्क्‍स से पढ़ाई पूरी करने के बाद, श्रीकांत के पास अमेरिका में रहने और एक आरामदायक जिंदगी बनाने का मौका था। लेकिन उनका दिल वापस आने और अपने देश और अपने देशवासियों के लिए कुछ करने का ठान रखा था। इसलिए वह अपने देश भारत वापस आ गए।

इसे भी पढ़ें:- ओम बिरला का जीवन परिचय

बॉलेंट इंडस्‍ट्रीज (Bollant Industries)

श्रीकांत ने 2012 में अपनी कंपनी, बोलेंट इंडस्‍ट्रीज की स्‍थापना की। उनकी प्रतिभ और उद्यमिता के प्रति जुनून को रतन टाटा ने देखा, जिन्‍होंने श्रीकांत को न केवल सलाह दी, बल्कि उनकी कंपनी में निवेश भी किया।

बॉलेंट इंडस्‍ट्रीज, जो पैकेजिंग के प्रोडक्‍ट्स बनाती है, तेजी से बढ़ती गई। लगभग 20 प्रतिशत मासिक औसत वृद्धि के साथ, कंपनी ने 2018 तक 150 करोड़ रूपये का कारोबार किया।

श्रीकांत की इंडस्‍ट्रीज में 5 मैन्‍युफैक्‍चरिंग प्‍लांट हैं, और 650 से अधिक लोगों को रोजगार मिलता हैं, जिसमें लगभग आधे लोग अलग-अलग डिसेबिलिटी वाले हैं।

  • बोलैंट इंडस्‍ट्रीज मैन्‍यु फैक्‍चरिंग यूनिट्स 1,2,3 हैदराबाद तेलंगाना
  • बोलैंट इंडस्‍ट्रीज pvt Ltd
  • बोलैंट इंडस्‍ट्रीज Kistaipally, तेलंगाना, हैदराबाद

श्रीकांत बोला की उपलब्धि और अवॉर्ड

  • साल 2017 में फोर्ब्‍स 30 अंडर में नामांकित किया गया था और श्रीकांत एशिया से चुने गए 3 भारतीयों में से एक थे।
  • साल 2016 में सीआईआई इमजिंग इंटरप्रेन्‍थोर ऑफ 6 ईयर।
  • ईसीएलआईएफ मलेशिया इमजिंग लीडरशिप अवॉर्ड। 
  • साल 2019 में TU 9 मीडिया ग्रुप नव नक्षत्र सनमनम द्धारा।
  • साल 2018 में हिंदू बिजनेस लाइन द्धारा यंग चेंजमेकर ऑफ द ईयर।
  • साल 2017 में साक्षी ग्रुप द्धारा इमर्जिंग एंटरप्राइज अवॉर्ड।
  • साल 2016 में यूथ बिजनेस इंटरनेशनल युगांडा द्धारा ग्‍लोब के सामाजिक उद्यमी।
  • 2016 में सीआईआई द्धारा इमेजिन एंटरप्रेन्‍योर ऑफ द ईयर अवॉर्ड।
  • साल 2019 में भारत सरकार द्धारा राष्‍ट्रीय उद्यमिता पुरस्‍कार।
  • साल 2021 में विश्‍व आर्थिक मंच द्धारा वैश्विक नेता चुना गया।

श्रीकांत बोल्‍ला से जुडें रोचक जानकारियॉं

  • श्रीकांत बोला एक ऐसे पहले नेत्रहीन हैं जिन्‍होंने दसवीं कक्षा के बाद साइंस स्‍ट्रीम से पढ़ाई की।
  • श्रीकांत बोला बोलेंट इंडस्‍ट्रीज फूड पैकेंजिंग कंपनी के सीईओ हैं।
  • श्रीकांत बोला की पत्‍नी का नाम वीरा स्‍वथी हैं।
  • श्रीकांत बोला का जन्‍म आंध्र प्रदेश के एक छोटे से गांव सीताराम पुरम में हुआ था।
  • श्रीकांत बोला को भारत के पूर्व राष्‍ट्रपति एपीजे अब्‍दुल कलाम ने लीड इंडिया कंपनी प्रोजेक्‍ट में शामिल किया था।
  • श्रीकांत बोला एक शतरंज खिलाड़ी भी रह चुके हैं।
  • श्रीकांत बोला एक राष्‍ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ी भी रह चुके हैं।
  • श्रीकांत बोला स्‍कूल में प्रथम स्‍थान पर आते थे साइंस स्‍ट्रीम से कक्षा 12वीं में 98 प्रतिशत अंको से पास हुए थे।

FAQ:

श्रीकांत बोला कौन हैं?

श्रीकांत बोला एक दृष्टिहीन बिजनेसमैन हैं।

श्रीकांत बोला के पिता का क्‍या नाम हैं?

दामोदर राव वेंकटप्‍पा

श्रीकांत बोला का जन्‍म कब हुआ था?

श्रीकांत बोला का जन्‍म 7 जुलाई 1992 को हुआ था।

श्रीकांत बोला की उम्र कितनी हैं?

29 वर्ष (7 जुलाई 1992)

इन्‍हें भी पढें

निष्‍कर्ष

मैं आशा करता हूं की आपको श्रीकांत बोल्‍ला का जीवन परिचय | Shrikant Bolla Biography In Hindi पसंद आया होगा। अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया है तो कमेंट करके अपनी राय दे, और इसे अपने दोस्तो और सोशल मीडिया में भी शेयर करे।

Leave a Comment

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now