एकनाथ शिंदे का जीवन परिचय | Eknath Shinde Biography in Hindi

एकनाथ शिंदे का जीवन परिचय (जीवनी, पार्टी, लेटैस्‍ट न्‍यूज, बेटा, परिवार, गॉंव, जन्‍म तारीख, शिक्षा, राज‍नीति, राजनीतिक करियर, विवाद, पत्‍नी, जाती, धर्म, संपत्ति) [Eknath Shinde Biography in Hindi] (Party, News, son, Village, age, MLA list, twitter, date of birth, education, politics career, controversy, family, caste, religion, property, net worth, wife)

पिछले कुछ दिनों से लगातार समाचार पत्रों और टीवी चैनल पर छाए हुए एकनाथ शिंदे महाराष्‍ट्र के साथ ही साथ भारत के सबसे चर्चित चेहरा बन गए हैं और इसकी वजह है एकनाथ शिंदे के द्धारा शिवसेना पार्टी से बगावत करना और 30 से भी अधिक विधायकों का समर्थन प्राप्‍त करना।

वर्तमान में शिवसेना पार्टी की सरकार को गिराने की पुरजोर कोशिश एकनाथ शिंदे द्धारा की जा रही हैं। ऐसे में आखिर एकनाथ शिंदे कौन है, इनके बारे में जानना हर कोई चाहता है, तो आइये जानते हैं एकनाथ शिंदे के जीवन के बारे में।

PTI06 30 2022 000201B 0 1656593880040 1656648136021
image credit – Eknath shinde

एकनाथ शिंदे का जीवन परिचय

नामएकनाथ शिंदे
जन्‍म तारीख9 फरवरी 1964
उम्र58 साल (2022)
जन्‍म स्‍थानमुंबई (महाराष्‍ट्र)
शिक्षाकला स्‍नातक (बी.ए) की डिग्री
स्‍कूलन्‍यू इंग्लिश हाई स्‍कूल ठाणे
कॉलेजवाशवंतराव चव्‍हाण मुक्‍त विश्‍वविधालय महाराष्‍ट्र
राशिकुंभ राशि
गृहनगरमुंबइ्र (महाराष्‍ट्र)
वजन69 कि.ग्रा.
ऑंखों का रंगकाला
बालो का रंगकाला
नागरिकताभारतीय
धर्महिन्‍दू
जातिपाटीदार
पेशाराजनीतिज्ञ
राजनीतिक दलशिवसेना
वैवाहिक स्थितिविवाहिक
संपत्ति7.82 करोड़ (साल 2019 तक)

एकनाथ शिंदे का प्रारंभिक जीवन

महाराष्‍ट्र राज्‍य के नवनियुक्‍त मुख्‍यमंत्री, एकनाथ शिंदे का जन्‍म 9 फरवरी 1964 में मुंबई महाराष्‍ट्र भारत में हुआ था। उनके पिता का नाम संभाजी नवलू शिंदे हैं। एकनाथ शिंदे जी का विवाह लता शिंदे से हुआ है जो कि एक बिजनेस वूमेन है। इन्‍हें संतान के तौर पर एक बेटा है जिसका नाम श्रीकांत शिंदे है। पेशे से वह एक आर्थोपेडिक सर्जन हैं और कल्‍याण निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा के सदस्‍य भी हैं।

वर्तमान में एकनाथ शिंदे की उम्र 58 साल की हो चुकी है। जब यह पैदा हुए थे तब इनके परिवार में काफी गरीबी थी और 16 साल की उम्र में अपने परिवार को आर्थक तौर पर सहायता देने के लिए इन्‍होंने ऑटो रिक्‍शा चलाना प्रारंभ किया और काफी लंबे समय तक इन्‍होंने ऑटो रिक्‍शा चलाई। इसके साथ ही साथ यह पैसे कमाने के लिए शराब बनाने वाली एक फैक्‍ट्री में भी काम करने लगे।

ऐसा कहा जाता है कि साल 1980 के आसपास में बाल साहब ठाकरे के भाषण और उनके विचारों से प्रभावित होकर के एकनाथ शिंदे ने शिवसेना पार्टी जॉइन कर ली। यह वह समय था जब शिवसेना ही एकमात्र इंडिया में ऐसी पार्टी थी, जो कट्टर हिंदुत्‍व के मुद्दे के लिए जानी जाती थी।

एकनाथ शिंदे की शिक्षा (Eknath Shinde Education)

उन्‍होंने अपनी शुरूआती शिक्षा न्‍यू इंग्लिश हाई स्‍कूल ठाणे से प्राप्‍त की। उन्‍होंने अपनी स्‍कूली शिक्षा छोड़ दी और अपने परिवार के लिए आजीविका कमाने के लिए एक छोआ सा काम करना शुरू कर दिया।

जब वे अपने करियर में अजीबोगरीब काम कर रहे थे, 1980 के दशक में, वे शिवसेना सुप्रीमो बाल ठाकरे और शिवसेना के ठाणे जिला प्रमुख आनंद दिघे के संपर्क में आए, जिन्‍होंने उन्‍हे शिवसेना में शामिल होने में सहायता की।

साल 2014 में, उन्‍होंने भाजपा-शिवसेना सरकार में मंत्री बनने के बाद अपनी पढ़ाई फिर से शुरू की और साशवंतराव चव्‍हाण मुक्‍त विश्‍वविद्यालय, महाराष्‍ट्र से मराठी और राजनीति विषयों में कला स्‍नातक (बी.ए) की डिग्री हासिल की।

एकनाथ शिंदे का परिवार (Eknath Shinde Family)

एकनाथ शिंदे जी की माता जी का नाम गंगूबाई शिंदे है। इनके पिताजी का नाम संभाजी नवलू शिंदे था। इसके अलावा इनकी पत्‍नी का नाम लता शिंदे है और इन्‍हें एक संतान के तौर पर एक बेटा है जिसका नाम श्रीकांत शिंदे है।

एकनाथ शिंदे का करियर (Eknath Shinde Career)

  • साल 1997 में ठाणे नगर निगम के लिए पहली बार पार्षद चुने गए।
  • साल 2001 में ठाणे नगर निगम में सदन के नेता के पद के लिए चुने गए।
  • साल 2002 में दूसरी बार ठाणे नगर निगम के लिए चुने गए।
  • साल 2004 में महाराष्‍ट्र विधानसभा के लिए चुने गए।
  • साल 2005 में शिवसेना के ठाणे जिला प्रमुख नियुक्‍त किए गए। पार्टी में इतने प्रतिष्ठित पद पर नियुक्‍त होने वाले पहले विधायक।
  • साल 2009 में महाराष्‍ट्र विधानसभा के लिए चुने गए।
  • अक्‍टूबर 2014 – दिसंबर 2014 में विपक्ष के नेता महाराष्‍ट्र विधानसभा।
  • साल 2014 – 2019 में कैबिनेट मंत्री महाराष्‍ट्र राज्‍य सरकार में पीडब्‍ल्‍यूडी।
  • साल 2014 – 2019 में ठाणे जिले के संरक्षक मंत्री।
  • साल 2018 में शिवसेना पार्टी के नेता नियुक्‍त।
  • साल 2019 में महाराष्‍ट्र राज्‍य सरकार में लोक स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्री (मराठी, सार्वजनिक आरोग्‍य आणि कुटुंब कल्‍याण).
  • साल 2019 में महाराष्‍ट्र विधानसभा के लिए चुने गए लगातार चौथी बार विधानसभा।
  • साल 2019 में शिवसेना के विधायक दल के नेता चुने गए।
  • 28 नवंबर 2019 को महाराष्‍ट्र के माननीय मुख्‍यमंत्री श्री उद्धव जी ठाकरे की अध्‍यक्षता में महा-विकास-अघाड़ी के तहत कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली.
  • साल 2019 में शहरी विकास और लोक निर्माण (सार्वजनिक उपक्रम) मंत्री नियुक्‍त।
  • साल 2019 में गृह मामलों के मंत्री (कार्यवाहक) नियुक्‍त (28 नवंबर 2019 – 30 दिसंबर 2019)
  • साल 2020 ठाणे जिले के संरक्षक मंत्री नियुक्‍त किये गए।

शिंदे को मिली गुरू की राजनीतिक विरासत

साल 2001 में 26 अगस्‍त के दिन एक एक्‍सीडेंट में शिंदे के राजनीतिक गुरू आनंद की मृत्‍यु हो गई। हालांकि कुद लोगों का ऐसा भी कहना है कि आनंद दिघे की मृत्‍यु नहीं हुई थी बल्कि राजनीतिक कारणों से उनकी हत्‍या करवाई गई थी।

आनंद की मौत हो जाने के पश्‍चात ठाणे के इलाके में शिवसेना का वर्चस्‍व कम होने लगा था और इस प्रकार से पार्टी ने थाने इलाके में शिवसेना के वर्चस्‍व को बनाए रखने के लिए वहां की कमान एकनाथ शिंदे को दी। इस प्रकार एकनाथ शिंदे ने अपनी काबिलियत के दम पर थाणे इलाके में पार्टी का परचम लहराया।

शिवसेना पार्टी में बगावत का कारण

पिछले कुछ समय से शिवसेना पार्टी पर अपने मूल सिद्धांतों से हटने का आरोप लगाया जा रहा है। लोगों का कहना है कि शिवसेना पार्टी कट्टर हिंदूत्‍ववादी पार्टी अब नहीं रही। अब वह इस्‍लाम परस्‍त पार्टी बन गई है।

इस प्रकार से लोगों का शिवसेना पार्टी से मोहभंग हो रहा है। इन लोगों में शिवसेना पार्टी के विधायक भी शामिल है। वहीं यह भी कहा जा रहा है। कि पिछले कुछ सालों से शिवसेना पार्टी के वर्तमान मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे के द्धारा ना तो कोई बड़ी मीटिंग का आयोजन किया गया है ना ही वह ज्‍यादा किसी विधायक से मिलते हैं।

हालांकि कुछ लोगों का यह भी कहना है कि उद्धव ठाकरे बस नाम के ही सी.एम है बल्कि सरकार तो एनसीपी के शरद पवार ही चला रहे हैं। ऐसे में एकनाथ शिंदे लगातार विधायकों से मिलते रहे। और उनके साथ मीटिंग करते रहे और उनकी समस्‍या को सुलझाने का प्रयास करते रहे।

इस प्रकार से एकनाथ शिंदे ने शिवसेना के विधायकों का भरोसा जीत लिया और उन्‍होंने समय आने पर पार्टी से बगावत कर दी। अब आलम यह है कि एकनाथ शिंदे के पास इतने विधायक है कि वह आसानी से महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री बन सकते हैं।

एकनाथ शिंदे की संपत्ति (Eknath Shinde Net Worth)

कुल संपत्ति – 7.82 करोड़ (साल 2019 तक)

चल संपत्ति-

बैंकों में जमा धन2,81,000 रू.
नकद धन32,64,760 रू.
बांड, डिबेंचर और शेयर30,591 रू.
एलआईसी या अन्‍य बीमा पॉलिसियां50,08,930 रू.
व्‍यक्तिगत ऋण/अग्रिम50,08,930 रू.
मोटर वाहन1,89,247 रू.
आभूषण46,55,490 रू.
अन्‍य संपत्ति25,87,500 रू.

अचल संपत्ति-

कृषि भूमि28,00,000 रू.
वाणिज्यिक भवन30,00,000 रू.
आवासीय भवन8,87,50,000 रू.
देयताएं3,74,60,261

FAQs:

Q. एकनाथ शिंदे कौन है?

शिवसेना पार्टी के नेता

Q. एकनाथ शिंदे चर्चा में क्‍यों हैं?

शिवसेना पार्टी से बगावत करने के कारण

Q. एकनाथ शिंदे का जन्‍म कब और कहा हुआ?

इनका जन्‍म 9 फरवरी 1996 को महाराष्‍ट्र में हुआ था।

Q. एकनाथ शिंदे के राजनीतिक गुरू कौन थे?

आनंद दीघे

Q. एकनाथ शिंदे की पार्टी का नाम क्‍या है?

शिवसेना

इन्‍हें भी पढ़े:-

निष्‍कर्ष

दोस्‍तों में आशा करता हूँ आपको “एकनाथ शिंदे का जीवन परिचय (Eknath Shinde Biography in Hindi)” वाला ब्‍लॉग पसंद आया होगा। अगर आपको मेरा ये ब्‍लॉग पसंद आया हो तो अपने दोस्‍तों और अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करे लोगों को भी इसकी जानकारी दे।

धन्‍यवाद…

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment