रवीश कुमार का जीवन परिचय | Ravish Kumar Biography In Hindi

रवीश कुमार का जीवन परिचय, जीवनी, रवीश कुमार बायोग्राफी, उम्र, पत्‍नी, बच्‍चे, एनडीटीवी, न्‍यूज (Ravish Kumar biography in hindi, Journalist ravish kumar biography, Age, wife, children, ndtv, latest news)

रवीश कुमार एक लोकप्रिय हिंदी पत्रकार हैं, जो अपने शो-प्राइम टाइम में अपने अनोखे मोनोलॉग के लिए जाने जाते हैं। वह NDTV इंडिया के बेहतरीन संपादक हैं। वह चैनल के प्रमुख वीकडे शो प्राइम टाइम, हम लोग, रवीश की रिपोर्ट और देश की बात सहित कई कार्यक्रमों की मेजबानी करता हैं।

कुमार को दो बार वर्ष के सर्वश्रेष्‍ठ पत्रकार के लिए पत्रकारिता पुरस्‍कार में रामनाथ गोयनका उत्‍कृष्‍टता पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया हैं और 2019 में रेमन मैग्‍सेसे पुरस्‍कार प्राप्‍त करने वाले पांचवें भारतीय पत्रकार बनें।

रवीश कुमार का जीवन परिचय | Ravish Kumar Biography In Hindi

रवीश कुमार का जीवन परिचय

नाम (Full Name)रवीश कुमार पाण्‍डेय
जन्‍म तारीख (Date of Birth)5 दिसंबर 1974
उम्र (Age)47 वर्ष (साल 2022 में)
गृहनगर (Hometown)मोतिहारी, बिहार
शिक्षा (Education)इतिहास में बीए, इतिहास में एमए, एम.फिल, पत्रकारिता में स्‍नातकोत्‍तर डिप्‍लोमा
स्‍कूल (School)लोयोला हाई स्‍कूल, पटना
कॉलेज (College)देशबंधु कॉलेज, दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय, भारतीय जनसंचार संस्‍थान, नई दिल्‍ली
राशि (Zodiac Sign)धनुराशि
लंबाई (Height)6 फीट
वजन (Weight)65 किलोग्राम
ऑंखो का रंग (Eye’s Colour)भूरा
बालों का रंग (Hair Colour)काला एवं सफेद
धर्म (Religion)हिन्‍दू
जाति (Zodiac Sign)भूमिहार ब्राह्मण
पेशा (Profession)पत्रकार, टीवी एंकर, लेखक
संबंधित (Related)एनडीटीवी इंडिया
जुड़ना (Joined)वर्ष 1996
पद (Designation)एनडीटीवी इंडिया में वरिष्‍ठ कार्यकारी संपादक
प्रसिद्धि शो (Famous Show)एनडीटीवी इंडिया पर रवीश की रिपोर्टएनडीटीवी इंडिया पर हम लोगएनडीटीवी इंडिया पर प्राइम टाइम
नागरिकता (Nationality)भारतीय
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)विवाहित

रवीश कुमार का जन्‍म एवं शुरूआती जीवन (Early Life)

रवीश कुमार का जन्‍म 5 दिसंबर 1974 को बिहार के पूर्वी चंपारन जिले के अरेराज के पास जितवारपुर गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम श्री बलिराम पांडे हैं। उनके भाई, ब्रजेश कुमार पांडे, बिहार में एक सक्रिय राजनीतिज्ञ हैं और भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस के सदस्‍य हैं।

रवीश कहते हैं कि दिल्‍ली आने से पहले उन्‍होंने केवल लखनऊ, जमशेदपुर और रानीखेत ही ‘बडे़’ शहर देखें थे। रवीश कुमार अक्‍सर जान से मारने की धमकी मिलने की शिकायत करते हैं ज्‍यादातर कुद दक्षिणपंथी चरमपंथियों द्धारा।

रवीश कुमार की शिक्षा (Ravish Kumar Education)

रवीश कुमार अपनी पत्रकारिता में अच्‍छा ज्ञानकोश नजर आता हैं, चलिए जान लेते हैं कि वरिष्‍ठ पत्रकार रवीश कुमार की शैक्षिक योग्‍यता क्‍या हैं, कितना पढें हैं रवीश कुमार,

  • रवीश कुमार ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पटना के लायलो हाईस्‍कूल से हासिल किया।
  • रवीश अपनी आगे की शिखा के लिए दिल्‍ली चले गए जहॉं उन्‍होंने देशबंधू कॉलेज से ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की।
  • ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद रवीश ने यूपीएससी सिविल सेवा के लिए परीक्षा दी परन्‍तु पास नहीं हो सकें।
  • रवीश ने ‘इंडियन इंस्टिटयूट ऑफ मास कम्‍यूनिकेशन’ से पोस्‍ट ग्रेजुएशन डिप्‍लोमा हासिल किया।
  • रवीश कुमार ने बीए इतिहास विषय से देश बंधू से किया।
  • एम ए की डिग्री इतिहास विषय से देश बंधू कॉलेज से हासिल किया।
  • रवीश कुमार ने एमफिल (M.Phil) किया हैं, रवीश ने दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय से एम.फिल (M.Phil) किया।

रवीश कुमार का परिवार (Ravish Kumar Family)

पिता का नाम (Father’s Name)बलिराम पांडे
माता का नाम (Mother’s Name)नाम ज्ञात नहीं
भाई का नाम (Brother’s Name)ब्रजेश कुमार पांडे
पत्‍नी का नाम (Wife Name)नयना दासगुप्‍ता
बच्‍चों के नाम (Children’s Name)2 (नाम ज्ञात नहीं)

रवीश कुमार की शादी, पत्नी (Ravish Kumar Wife)

रवीश कुमार जब M.Phil कर रहे थे तब उनकी मुलाकात दिल्ली के इंद्रप्रस्थ कॉलेज में पढ़ने वाली नयना दासगुप्ता से हुई फिर धीर धीरे इनकी दोस्ती प्यार में बदल गई।

नैना के साथ रवीश कुमार ने काफी कुछ सीखा सबसे महत्वपूर्ण यह रहा कि नैना ने रवीश को बुक पढ़ने की आदत सिखाई। यह दोनों साथ में पूरी दिल्ली घूमे यह वह दौर था जब रवीश के पास कुछ खास पैसे नहीं होते थे। इसलिए दोनों ज्यादातर लोंग वॉक पर जाते या छोटे-मोटे कॉफी हाउस चले जाते थे।

7 साल तक एक दूसरे को डेट करने के बाद जब रवीश कुमार ने अपने घरवालों को नयना दासगुप्ता से शादी करने के बारे में बताया तो इनके घर वाले नहीं माने। घरवालों की नाराजगी के बावजूद रवीश कुमार ने नैना से शादी कर ली।

रवीश कुमार और नयना दासगुप्ता कि आज दो बेटियां हैं नयना दास गुप्ता लेडी श्री राम कॉलेज में इतिहास की टीचर है। एक इंटरव्यू में रवीश ने कहा कि हर सफल इंसान की लाइफ में किसी का हाथ होता है उनकी लाइफ में सफलता के पीछे वह अपनी पत्नी नयना दासगुप्ता का हाथ मानते हैं।

इसे भी पढ़ें:-

रवीश कुमार का करियर (Ravish Kumar Career)

इंडियन इंस्‍टीटयूट ऑफ मास कम्‍यूनिकेशन से पत्रकारिता में स्‍नातकोत्‍तर डिप्‍लोमा के बाद, रवीश 1996 में एनडीटीवी इंडिया में शामिल हो गए और भारत में सबसे लोकप्रिय हिंदी पत्रकारों में से एक बन गए।

एनडीटीवी इंडिया में उनके कई शो को जनता और आलोचकों दोनों ने भी पसंद किया हैं।

रवीश कुमार आम भारतीय जीवन की अदृश्‍य कहानियों को कवर करने के लिए जाने जाते हैं। पहली ‘रवीश की रिपोर्ट’ पहाड़गंज पर थी। शो में उन्‍होंने शहर के अछूते जीवन को कवर किया और उन्‍हें एक आम आदमी की भाषा में पेश किया।

रवीश कुमार का करियर (Ravish Kumar Career)

रवीश कुमार को अक्‍सर टेलीविजन समाचार न देखने का हवाला देते हुए देखा जाता हैं जैसा कि वह अधिकांश टीवी रिपोर्टिंग को पक्षपाती मानते हैं, जो आम लोगों को भटकाते हैं।

रवीश कुमार की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता हैं कि एक लोकप्रिय यूटयूब चैनल द स्‍क्रीन पट्टी (टीएसपी) रवीश की रिपोर्ट नाम से एक कार्यक्रम चलाता हैं। जिसमें अभिनेता शिवंकित सिंह परिहार ने रवीश कुमार को “राजा रवीश कुमार” के रूप में चित्रित किया हैं।

रवीश कुमार की पुस्तकें (Ravish Kumar Books)

प्रसिद्ध पत्रकार रवीश कुमार द्वारा कुछ लिखी गई किताबों की जानकारी इस प्रकार है-

  • बोलना ही है: लोकतंत्र, संस्कृति और राष्ट्र के बारे में (हिंदी में)
  • इश्क में शहर होना (हिंदी में)
  • द फ्री वायस: ऑन डेमोक्रेसी कल्चर एंड द नेशन
  • देखते रहिए (हिंदी में)
  • रवीशपंती (हिंदी में)
  • प्यार में एक शहर होता है

रवीश कुमार के पुरस्कार (Ravish Kumar Awards)

कुमार का कैरियर कितना शानदार रहा होगा इस बात का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हो कि उन्हें एशिया का “नोबेल पुरस्कार कहे जाने वाले रमन मैग्सेसे अवार्ड” से सन 2019 में सम्मानित किया गया।

यह अवार्ड पत्रकारिता के क्षेत्र में आज तक भारत के सिर्फ दो लोगों को मिला है इस अवार्ड के अलावा रवीश कुमार को खूब सारे अवार्ड मिले हैं।

चलिए जानते हैं कि रवीश कुमार को कौन-कौन से अवार्ड मिले हैं-

  • 2010 में उन्हें राष्ट्रपति के हाथों गणेश शंकर छात्र पुरस्कार मिला।
  • 2013 और 2017 में पत्रकारिता के क्षेत्र में रामनाथ गोयंका पुरस्कार से सम्मानित किए गए।
  • 2014 में भारतीय टेलीविजन द्वारा सर्वश्रेष्ठ टीवी एंकर का पुरस्कार मिला।
  • पत्रकारिता में गौरी लंकेश का अवॉर्ड्स भी मिला।
  • फिर 2017 में साहित्य के क्षेत्र में रवीश कुमार को गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार मिला।
  • 2016 में द इंडियन एक्सप्रेस ने रवीश कुमार को 100 सबसे ज्यादा प्रभावशाली लोगों की लिस्ट में रखा।
  • मुंबई प्रेस क्लब की तरफ से जॉन लिस्ट ऑफ द ईयर का अवार्ड जीत चुके हैं रविश कुमार।

रवीश कुमार है देश के हीरो –

जहा पर देश में ज्यादातर टीवी चैनल और मीडिया की खुले तौर पर बुराई की जाती है वही रवीश कुमार जैसे कुछ ईमानदार लोगों की वजह से अभी लोग मीडिया पर भरोसा करते हैं।

अपनी शानदार समझ भरी बहस और जनता के असली मुद्दे उठाने के लिए वो काफी सराहे जाते हैं। अगर हिंदी पत्रकारिता की बात की जाये तो वे बिना किसी संदेह के भारत के सबसे बड़ें और चेहते पत्रकार हैं।

रवीश कुमार को बहुत बार जान से मारने की धमकी भी मिल चुकी हैं इसके बावजूद वे अपना काम ईमानदारी और निडरता से किये जा रहे हैं।

रवीश कुमार की संपत्ति (Ravish Kumar Salary 2022)

कुल संपत्ति (Net Worth)$24 मिलियन
कुल संपत्ति रुपयों में (Net Worth in Indian rupees)180 + करोड़ रूपए
सैलरी (Income)3 करोड़ रूपए (लगभग)
एक महीने की आय (Monthly Income)25 लाख रुपए

FAQ:

रवीश कुमार की सैलरी क्‍या हैं?

रवीश कुमार की लगभग 25 लाख रूपए महीना की इनकम हैं।

रवीश कुमार की पत्‍नी कौन हैं?

नयना दास गुप्‍ता

भारत के नंबर 1 पत्रकार कौन हैं?

रवीश कुमार को भारत का नवंबर 1 पत्रकार माना जाता हैं।

रवीश कुमार का जन्‍म कब और कहॉं हुआ था?

रवीश कुमार का जन्‍म 5 दिसंबर 1974 को बिहार के पूर्वी चंपारन जिले के अरेराज के पास जितवारपुर गांव में हुआ था।

रवीश कुमार से जुड़ें कुछ रोचक महत्‍वपूर्ण जानकारियॉं

  • जिस स्‍थान पर रवीश कुमार का जन्‍म हुआ (मोतीहारी, बिहार), वह एक ऐतिहासिक शहर हैं और ‘पूर्वी चंपारण’ नाम से बहुत प्रसिद्ध हैं।
  • उनके भाई बृजेश कुमार पांडेय भारतीय कांग्रेस पार्टी के सदस्‍य हैं।
  • उनका विवाह नैना दास गुप्‍ता से हुआ जो लेडी श्री राम कॉलेज में (इतिहास की शिक्षिका) के रूप में कार्यरत हैं।
  • भारत के सु‍प्रसिद्ध न्‍यूज चैनल एनडीटीवी पर ‘हम लोग’, ‘रविश की रिपोर्ट’, ‘प्राइम टाइम’ जैसे प्रमुख कार्यक्रमों के आयोजन से वह बहुत लो‍कप्रिय हुए।
  • 2013 में, उन्‍हें सर्वश्रेष्‍ठ पत्रकारिता के लिए रामनाथ गायंका एक्‍सीलेंस पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया था।
  • वर्ष 2014 में, रविश ने हिंदी में सर्वश्रेष्‍ठ समाचार एंकर के लिए Indian News Television Award जीता।
  • वर्ष 2016 में, द इंडियन एक्‍सप्रेस ने उन्‍हें 100 सबसे प्रभावशाली व्‍यक्तियों की भारतीय सूची में शामिल किया था।

इन्‍हें भी पढ़ें

निष्‍कर्ष

मैं आशा करता हूं की आपको “रवीश कुमार का जीवन परिचय | Ravish Kumar Biography In Hindi” पसंद आया होगा। अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया है तो कमेंट करके अपनी राय दे, और इसे अपने दोस्तो और सोशल मीडिया में भी शेयर करे।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment